जंग!

हर तरफ एक जंग छिड़ी है!

सरहद पर आतंकियों से जंग,
देश में धर्म की जंग,
धर्म एक तो जात की जंग,
जात एक तो जल की जंग!

हर तरफ एक जंग छिड़ी है!

आज़ाद देश में आज़ादी की जंग,
राजनेताओं में सिहाशन की जंग,
अमीरो में आरक्षण की जंग,
गरीबो की ज़िन्दगी से जंग!

हर तरफ एक जंग छिड़ी है!

खान पान पर जंग छिड़ी है,
भाषा बोली को लेकर जंग छिड़ी है,
देश एक पर राज्यो में जंग छिड़ी है,
राज्य एक तो राजनेता को लेकर जंग छिड़ी है!

हर तरफ एक जंग छिड़ी है!

हीर को रांझे से अलग करने की जंग,
इंसानियत की हैवानियत से जंग,
सपनो की सचाई से जंग,
भीड़ में खुद की पहचान की जंग!

हर तरफ एक जंग छिड़ी है!

न जाने कब यह प्रलय थम पायेगी,
न जाने कब इंसानियत सर उठा पायेगी,
न जाने कब वह दौर आएगा,
जब इंसान इंसान बन पायेगा!

Advertisements

About Mickey!

An engineer by degree, an analyst for employer, brother for some, friends for others and may be even enemy for few but while playing all these different roles for different people, I have lost myself. Who am I? I just hope someone day while expressing these unexpressed feeling, I will figure out myself! Till then, Enjoy the life! Cheerio!
This entry was posted in thoughts, Uncategorized and tagged , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s